लखनऊ – उत्तर-प्रदेश में श्यामाप्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस पर राजधानी लखनऊ के डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी चिकित्सालय (सिविल अस्पताल)में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस कार्यक्रम के दौरान कई भाजपा के मंत्री और विधायकगणों के साथ भारी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

बता दें कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय का नाम भारतीय जनता पार्टी के नायकों में सबसे ऊपर आता है। मौजूदा दौर की राजनीति में बीजेपी के लिए दीनदयाल उपाध्याय जहां वैचारिक बल देते हैं, तो वहीं श्यामा प्रसाद मुखर्जी सियासी तौर पर ज्यादा मुफीद नजर आते है। आज श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती है। जम्मू-कश्मीर में श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने धारा 370 का विरोध शुरू किया उन्होंने एक देश में दो विधान, एक देश में दो निशान, एक देश में दो प्रधान- नहीं चलेंगे नहीं चलेंगे जैसे नारे दिए थे। देश की एकता और अखंडता को लेकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने आंदोलन चलाया।

गौरतलब है कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 में यह प्रावधान किया गया था कि कोई भी भारत सरकार से बिना अनुमति लिए हुए जम्मू-कश्मीर की सीमा में प्रवेश नहीं कर सकता। मुखर्जी इस प्रावधान के सख्त खिलाफ थे। इसे लेकर उन्होंने आंदोलन शुरू किया और कश्मीर के लिए रवाना हो गए। उस समय जम्मू-कश्मीर सरकार ने राज्य में प्रवेश करने पर मुखर्जी को 11 मई 1953 को हिरासत में ले लिया। इसके कुछ समय बाद 23 जून 1953 को जेल में उनकी रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.