मेट्रो के डिपो में ट्रैक बिछाने का काम लेने लगा अपना रूप

आगरा. ताजनगरी में सरपट दौड़ने के लिए मेट्रो ट्रैक को बिछाने का काम तेजी से चल रहा है. उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन द्वारा आगरा मेट्रो डिपो परिसर में ट्रैक बिछाया जा रहा है. और यह काम एलएंडटी कंपनी द्वारा किया जा रहा है. वहीं उत्तर प्रदेश मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि आगरा मेट्रो के लिए हेड हारडेड रेल ट्रैक का प्रयोग किया जा रहा है.

दरअसल प्रबंध निदेशक कुमार केशव का कहना है कि हेड हारडेड रेल ट्रैक पारंपरिक तौर पर प्रयोग की जाने वाली पटरियों से भी मजबूत होता है. और हेड हारडेड रेल ट्रैक की मेंटेनेंस कॉस्ट भी काफी कम होती है. आगरा मेट्रो डिपो परिसर में ट्रैक बिछाने का काम बदस्तूर जारी है. और जल्दी ही प्रयोरिटी कॉरिडोर के एलिवेटेड भाग में ट्रैक बिछाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा. प्रबंध निदेशक ने बताया कि रेलवे की तुलना में मेट्रो प्रणाली में पटरियों पर गाड़ियों का आवागमन अत्यधिक होता है. यहां मेट्रो रेल औसतन 5 मिनट के अंतर पर चलती है. तेजी से ट्रेन की स्पीड पकड़ने और ब्रेक लगाने की स्थिति में ट्रेन के पहिए और पटरी के बीच अत्यधिक घर्षण होता है. जिसके कारण सामान्य पटरी घिस जाती है. और पटरी टूटने, क्रेक आदि जैसी समस्या आने लगती हैं. लेकिन हेड हारडेड रेल ट्रैक के अधिक मजबूत होने के कारण ऐसी कोई समस्या नहीं होती.

यूपीएमआरसी के द्वारा आगरा मेट्रो डिपो परिसर में बैलास्टेड ट्रैक बिछाया जा रहा है. बैलास्टेड ट्रैक के लिए समतल भूमि पर गिट्टी एवं कॉन्क्रीट के स्लीपरों पर पटरी बिछाई जाती है. वहीं आगरा मेट्रो के दोनों कॉरिडोर के मेन रोड पर बैलास्टलेस ट्रेक का प्रयोग किया जाएगा. बैलास्टलेस ट्रैक के लिए कंक्रीट बीम पर पटरियों को बिछाया जाएगा. इसके साथ ही पारंपरिक तौर पर प्रयोग होने वाले ट्रैक की तुलना बैलास्टलेस ट्रैक अधिक मजबूत होगा एवं इसका मेंटेनेंस भी काफी कम है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.