बरेली के मौलाना शाहबुद्दीन ने सीएम योगी से आजम खां को रिहा करने की लगाई गुहार, मुलायम सिंह यादव को याद दिलाई यह बात …..
बरेली : दरगाह आला हजरत से जुड़े एवं आल इंडिया तंजीम उलमा-ए-इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं रामपुर शहर से विधायक मुहम्मद आजम खां की रिहाई को लेकर दो पत्र लिखें हैं.इसमें एक पत्र मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखकर आजम खां की रिहाई की गुहार लगाई है, जबकि दूसरा पत्र पूर्व सीएम एवं सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को लिखा है.इसमें सपा नेता के संघर्ष के दिनों के साथी एवं “मुल्ला मुलायम सिंह’ के खिताब से नवाजने वाले आजम खां की रिहाई को पीएम से बात करने को कहा है.

मौलाना शाहबुद्दीन रजवी ने पत्र के माध्यम से सपा संरक्षक से कहा कि सपा को बुलंदियों पर खड़ा करने में मोहम्मद आजम खान ने मुख्य भूमिका निभाई है. मगर, उनकी परेशानी के वक्त में आपने और सपा ने कोई मदद नहीं की.आजम खान की रिहाई के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुजारिश करनी चाहिए थी, लेकिन नहीं की. उन्होंने कहा कि अगर आप प्रधानमंत्री से गुजारिश कर आजम खां की रिहाई के लिए कदम नहीं उठाते हैं, तो यह समझा जायेगा कि मुसलमानों से किए गए आपके वादे बिल्कुल झूठे थे. मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने सीएम योगी को लिखे पत्र में कहा कि आजम खान ढाई साल से जेल में बंद है. वह कई बार के विधायक- सांसद और उत्तर प्रदेश में मंत्री भी रह चुके हैं. जेल में उनके लिए खाने-पीने और रहने के बेहतर इंतजाम नहीं है.इसलिए आप से गुजारिश है कि आजम खान की रिहाई कराएं.इससे मुसलमानों की भी सोच में आपके प्रति बदलाव होगा.इससे पहले मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने मुसलमानों से सपा से दूरी बनाने का आह्वान किया था.
-दोबारा सीएम बनने की दी
मुबारकबाद
मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दोबारा सीएम बनने की मुबारकबाद दी. उन्होंने कहा कि मोहम्मद आजम खान के प्रति आपकी सहानुभूति से उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे देश में मुस्लिम नेताओं के प्रति हमदर्दी होगी.

-कंधे से कंधे मिलाकर दिया साथ
मौलाना ने कहा कि मोहम्मद आजम खान आपके पुराने साथियों में से एक है.उन्होंने हमेशा संघर्षों के दिनों में आपके कंधे से कंधा मिलाकर साथ दिया है. मुल्ला मुलायम की उपाधि भी दी.अखिलेश यादव के लिए कन्नौज में सबसे पहले चुनाव में मुसलमानों से मोहम्मद आजम खान ने कहा था कि टीपू को सुल्तान बना दो. मुसलमानों ने टीपू सुल्तान भी बनाया. कुर्ता फैलाकर आपकी पार्टी के लिए वोट मांगे.मगर,इसके बाद भी उन पर आपदा आने पर वह अकेले और तन्हा खड़े हैं. आपकी पार्टी और आपकी तरफ से कोई मदद नहीं की गई है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.