इलाहाबाद – गुरूवार को मुंबई में हुए चार्टर्ड प्लेन क्रैश हादसे में को-पायलट मारिया जुबेरी की भी मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि मारिया ने अपनी जान देकर एक बड़ा हादसा होने से बचा लिया।

गौरतलब है कि मारिया उत्तर-प्रदेश के इलाहाबाद की रहने वाली थीं, उनके माता-पिता इलाहाबाद के रानी मंडी मोहल्ले में रहते हैं और मारिया का बचपन भी यहीं बीता है, जैसे ही परिवार को हादसे की सूचना मिली घर में कोहराम मच गया।

मारिया की मां फरीदा जुबैरी के मुताबिक मारिया अभी 20 दिन पहले ही अपने परिवार से मिलने इलाहाबाद आई थी। इलाहाबाद की रहने वाली मारिया जुबेरी के परिवार का दावा है कि मारिया देश की पहली मुस्लिम महिला पायलट थीं, मारिया की बेटी ने उनकी मौत से एक दिन पहले ही मुंबई में हुए एक क्विज कंपीटीशन में गोल्ड मेडल भी हासिल किया था, बेटी की इस उपलब्धि पर मारिया ने अपने माता- पिता व अन्य रिश्तेदारों को फोन कर उनसे बात की थी। बेटी की इस कामयाबी से मारिया इतनी खुश थीं कि अगले हफ्ते रिश्तेदारों के साथ मुंबई में पार्टी करने वाली थीं लेकिन वो पार्टी अब नहीं हो पाएगी।

वहीं मारिया के पिता डॉ. इकबाल हसन जुबेरी बेटी की मौत से सदमे में है। उनके मुताबिक वे बेटी को अपनी तरह डॉक्टर बनाना चाहते थे, लेकिन बेटी का पैशन पायलट बनने का था और उसने देश की पहली मुस्लिम पायलट बनकर अपना सपना पूरा किया। मारिया की शादी 18 साल पहले रायबरेली के आमिर रिजवी के साथ हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.