लखनऊ – उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देवरिया में बालिका संरक्षण गृह से बच्चियों के गायब होने के मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए देवरिया कांड की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया।

मुख्यमंत्री योगी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि देवरिया की घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, कल मैंने इस घटना पर बैठक कर जांच समिति बनाई थी। रिपोर्ट के अनुसार, मां विंध्यवासिनी समिति 2009 से संचालित थी, इस संस्था की पहले जांच हुई थी। जिसके बाद जून 2017 में हमने इस संस्था की मान्यता रद्द कर दी थी।

मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि मामले की डीएम को चार्जशीट दी जा रही है, प्रोबेशन अधिकारी, प्रभारी अधिकारी को कल ही चार्जशीट किया था। इस मामले में बाल कल्याण समिति को निलंबित किया जा रहा है, इस पूरे प्रकरण में एक साल (2017 से) में इस संस्था की घटनाओं में पुलिस की भूमिका की जांच होगी। संस्था के खिलाफ 30 जुलाई को एफआईआर भी हुई थी।

योगी ने कहा कि देवरिया कांड को लेकर पुलिस की भूमिका की जांच एडीजी लखनऊ दावा शेरपा करेंगें, पिछली सरकारों ने बाल कल्याण समिति में लोग नामित हुए थे। मामले की जांच हम सीबीआई को दे रहे हैं, इसके साथ ही मामले की जांच एसआईटी भी करेगी। वहीं बालिकाओं को बनारस शिफ्ट किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.