मुख्यमंत्री कॉल सेंटर के जरिये जन सुनवाई करने वाली लड़कियां ही हो रही है शोषण का शिकार

लख़नऊ ,कहावत है कि देने वाले के घर देर हो सकती है पर अंधेर नही, लेकिन मुख्यमंत्री के कॉल सेंटर में काम करने वाली लड़कियों के साथ तो देर भी हो रही है अंधेर भी।
मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 चला रही कम्पनी surevin से 3 से 4 महीने से सैलरी न मिलनेऔर सैलरी के नाम पर एकाउंट्स में 80-100-400 की धनराशि आने पर महिला और पुरुष कर्मचारियों ने किया विरोध,कमर्चारियों का आरोप आज जब सैलरी को लेकर सीनियरों से हुई कहासुनी तो महीनो से सैलरी का इंतजार कर रहे कमर्चारियों को कमरों में जबरन किया गया बन्द,अवसाद में आकर कुछ महिला कर्मचारी हुईं बेहोश जिन्हें पास के लोहिया अस्पताल में कराया गया भर्ती ।एक तरफ जहाँ पीड़ित कर्मचारियों के परिजनों और साथी कर्मचारियों का कहना कि अस्पताल में एडमिट हुई महिला कर्मचारियों के द्वारा जहर भी खाया गया है वहीँ दूसरी ओर अस्पताल प्रशासन का कहना कि 4 महिला कर्मचारियों को एडमिट किया गया है जिनमे चिंताग्रस्त होने के लक्षण मिले हैं इन लोगों में जहर खाने का कहीं भी कोई केस नहीं है।

– हालत बिगड़ी आनन फानन में लड़कियों को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया

– सैलरी ना मिलने के चलते लड़कियों ने उठाया कदम

– पुलिस बता रही है लड़कियों का ड्रामा

– मेहनत की कमाई न मिलने से आहत लड़कियों का दुख पुलिस को दिख रहा है ड्रामा

– सैलरी की मांग कर रही लड़कियों के साथ विभूति खंड पुलिस ने की बदसलूकी

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.