कानपुर – यूपी में बीजेपी सरकार के कर्मचारी और अधिकारी इन दिनों इतने बेलगाम हो गए हैं कि उन्हे अब किसी का खौफ नहीं और जनता का कोई प्रतिनिधि जनता की शिकायत को लेकर कर्मचारी या अधिकारियों के पास जाता है तो अधिकारी बेशर्मी पर उतारू हो जाते हैं। पहले तो शिकायतों को अनसुना कर देते हैं और अगर ज्यादा दबाव पड़ता है तो कुछ ऐसी बेशर्म हरकत पर उतारू हो जाते हैं जिससे दोबारा उनसे काम न कराया जाए। कुछ ऐसा ही मामला कानपुर में हुआ जहां जनता की फरियाद सुनना समाजवादी पार्टी के विधायक अमिताभ वाजपेई को महंगा पड़ गया, हालात ये हो गए कि विधायक अपनी पत्नी के गहने लेकर नगर निगम के अधिकारियों के पास पहुंचकर बिल भरपाई की बात कही। जिसके बाद अधिकारियों ने मामले में माफी मांगी।

“संघी पाईप & ट्यूब्स” कंपनी का बिल, जिसका भुगतान विधायक अमिताभ वाजपेई को करने को कहा

दरअसल विधायक अमिताभ बाजपेई आर्य नगर से विधायक हैं, उनके विधानसभा क्षेत्र के स्थानीय लोग काफी समय से विधायक अमिताभ बाजपेई से पाइप लाइन लीकेज की शिकायत कर रहे थे, लोगों की शिकायत पर विधायक ने तत्परता दिखाई और जल निगम से तुरंत एक्शन लेने को कहा, शिकायत पर जल निगम ने पाइप लाइन लीकेज तो ठीक करा दिया लेकिन खर्चे का बिल विधायक के नाम भेज दिया। जल निगम ने उनके नाम एक लाख तीस हजार का बिल भेज दिया।

प्रशासन के इस बेशर्म रवैये को देखते हुए विधायक अमिताभ बाजपेई ने अपनी और पत्नी के जेवर लेकर जल निगम के दफ्तर पहुंच गए, वहां उन्होंने जेवर अधिकारी को सौंप कर बिल अदायगी कर लेने को कहा, साथ ही कहा कि उनकी विधानसभा में जो भी खामियां है, उन्हें दूर कर दिया जाए और भुगतान उनकी सम्पत्तियां बेचकर कर लिया जाए। जिसके बाद जल निगम के क्षेत्रीय मुख्य अभियंता ने विभागीय कर्मचारियों की गलती के लिए माफी मांगी और दोषी पर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.