लोकसभा चुनाव 2019 की सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी है। संगठन को मजबूत करने के साथ ही सभी पार्टियां अपने बागी नेताओं पर भी गाज गिराने से पीछे नहीं हट रहीं हैं। इसी कड़ी में अपने सख्त तेवरों की वजह से चर्चा में रहने वाली बसपा सुप्रीमो मायावती की तीन कद्दावर नेताओं पर नजर टेढ़ीं हो गई। जिसके बाद उन्होंने पूर्व सांसद कैसरजहां, पूर्व कैबिनेट मंत्री रामहेत भारती और पूर्व विधायक जासमीर अंसारी को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के चलते उन्हे पार्टी से निकाल बाहर कर दिया। मायावती के इस बड़े कदम ने सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है। मायावती के इन नेताओं को पार्टी से निकाले जाने के बाद इनके सपा में शामिल होने की चर्चाएं होने लगी हैं।

गौरतलब है कि तीनों ही नेता सीतापुर जिले के हैं इनमें से कैसरजहां 2009 में पहली बार बसपा के टिकट पर सांसद चुनी गई थीं, वहीं, उनके पति जासमीर अंसारी 2007 में लहरपुर सीट से विधायक चुने गए थे, इनके अलावा रामहेत भारती हरगांव विधानसभा क्षेत्र से तीन बार विधायक रह चुके हैं लेकिन फिर भी बसपा सुप्रीमो ने उनकी अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की और उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.