अलीगढ़ – उत्तर प्रदेश में पुलिस आरक्षी व दारोगा भर्ती की दौड़ परीक्षा के अंतिम दिन शनिवार को एक के बाद एक 16 अभ्यर्थी बेहोश हो गए, आनन-फानन उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया,  तो वहीं बागपत के थाना रमाला क्षेत्र के गांव खंडेरा के अंकुर अहलावत नाम के एक सिपाही की मौत हो गई। अंकुर मेरठ की छठवीं बटालियन पीएसी में सिपाही था। वह दारोगा भर्ती में हिस्सा लेने आया था। उसके किसान पिता रामवीर सिंह की चार साल पहले ही मौत हो चुकी है। इकलौता बेटा ही मां व बहन का सहारा था।

बता दें कि दौड़ परीक्षा 38वीं वाहिनी पीएसी के मैदान में चार जुलाई को शुरू हुई थी। अभ्यर्थियों को पांच किमी की दौड़ अधिकतम 28 मिनट में पूरी करनी थी। तीन दिन ठीक से बीते। आखिरी दिन खलबली तब मच गई जब शनिवार सुबह नौ बजे शुरू हुई तीसरी पाली की दौड़ में उमस व गर्मी से पस्त अभ्यर्थियों की तबीयत बिगडऩे लगी। एक के बाद एक वे जमीन पर हांफते हुए गिरने लगे। 16 बेहोश अभ्यर्थियों को दीनदयाल हॉस्पिटल में भर्ती कराया। यहां से अंकुर अहलावत को वरुण ट्रामा सेंटर व सचिन को जेएन मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया। अंकुर को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। डीएम चंद्रभूषण सिंह व एसएसपी अजय साहनी भी ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। मौत की वजह उमस व गर्मी ही मानी जा रही है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही असल कारण पता लगेगा। इसके लिए मेडिकल बोर्ड गठित किया गया है। घटना की जानकारी होने के बाद अंकुर के परिजन भी यहां पहुंच गए हैं। अफसरों के मुताबिक अंकुर ने 28 मिनट के बजाय 26 मिनट 10 सेकेंड में ही दौड़ पूरी कर ली थी। दौड़ खत्म होने पर उसकी सांस बहुत ज्यादा फूल रही थी। उसने साथी से पानी मांगा। इसी दौरान वह जमीन पर गिर पड़ा। एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि 16 अभ्यर्थियों की तबीयत बिगड़ गई थी। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां बागपत निवासी अभ्यर्थी की मौत हो गई

Leave a Reply

Your email address will not be published.