मुख्यमंत्री येदियुरप्पा कैबिनेट विस्तार पर चर्चा करने दिल्ली पहुंचे

नई दिल्ली. कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा (B. S. Yediyurappa) भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ राज्य में कैबिनेट विस्तार (cabinet expansion) पर चर्चा करने के लिए बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे. मुख्यमंत्री येदियुरप्पा अपने इस दो दिवसीय दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा और केंद्रीय मंत्रियों के साथ राज्य के मुद्दों पर चर्चा करने वाले हैं.

‘राज्य के विकास कार्यों के बारे में कई केंद्रीय मंत्रियों से करूंगा चर्चा’
येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं राज्य के विकास कार्यों के बारे में कई केंद्रीय मंत्रियों के साथ चर्चा करने दिल्ली आया हूं. साथ ही मैं पार्टी के नेताओं के साथ मंत्रिमंडल विस्तार पर भी चर्चा करूंगा और उनके विचार जानूंगा.’

कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा कैबिनेट विस्तार पर चर्चा करने दिल्ली पहुंचे

‘राज्य के विकास कार्यों के बारे में कई केंद्रीय मंत्रियों से करूंगा चर्चा’
येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं राज्य के विकास कार्यों के बारे में कई केंद्रीय मंत्रियों के साथ चर्चा करने दिल्ली आया हूं. साथ ही मैं पार्टी के नेताओं के साथ मंत्रिमंडल विस्तार पर भी चर्चा करूंगा और उनके विचार जानूंगा.’

मुख्यमंत्री के साथ उनके पुत्र बी.वाई विजयेंद्र भी
येदियुरप्पा के बृहस्पतिवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और शुक्रवार को प्रधानमंत्री मोदी, नड्डा और कई अन्य केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात करने की संभावना है. मुख्यमंत्री के साथ उनके पुत्र एवं भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष बी वाई विजयेंद्र भी हैं. येदियुरप्पा पर असंतुष्ट विधायकों को मनाने के लिए कर्नाटक कैबिनेट का विस्तार जल्द करने का दबाव है, हालांकि वह अभी इस तरह का कोई बदलाव के इच्छुक नहीं हैं

.कोरोना के बढ़ते मामलों से जूझ रहा कर्नाटक
गौरतलब है कर्नाटक इस वक्त कोरोना से बढ़ते मामलों से जूझ रहा है. हालांकि मार्च के बाद शुरुआती महीने में राज्य ने महामारी को रोकने में सफलता पाई थी जिसे लेकर राज्य सरकार की काफी तारीफ भी की गई थी. लेकिन जून से अनलॉकिंग की प्रक्रिया शुरू होने के बाद राजधानी बेंगलुरु समेत राज्य के अन्य हिस्सों में कोरोना के केस बहुत तेजी के साथ बढ़े. इस वक्त राज्य में एक लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं. हालांकि डेथ रेट के मामले में कर्नाटक का आंकड़ा काफी बेहतर रहा है. तकरीबन पांच लाख कोरोना केस आने के बावजूद राज्य में तकरीबन साढ़े सात हजार मौतें हुई हैं जो पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र की तुलना में लगभग आधा है.

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *