बाबरी विध्वंस केस : साक्षी महाराज बोले- माथे पर कलंक जैसा था विवादित ढांचा…

अयोध्या में बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे को गिराने के 28 साल बाद बुधवार यानी 30 सितंबर को लखनऊ सीबीआई की विशेष कोर्ट अपना फैसला सुनाएगी। इस केस में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह जैसे 32 आरोपी हैं। आरोपियों में से एक उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज भी हैं। फैसले के एक दिन पहले साक्षी महाराज ने केस को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि, रामकाज के लिए जो भी जजमेंट आएगा, वह हमें स्वीकार होगा। जेल भी जाना पड़े तो हंसते हुए माला पहनकर जाऊंगा।

हिंदुस्तान के माथे पर कलंक था विवादित ढांचा

साक्षी महाराज ने पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के एक वक्तव्य को उदाहरण के रूप में बखान करते हुए कहा कि कल्याण सिंह ने एक बार कोर्ट में कहा था राम जी के लिए 24 घंटे के लिए नहीं पूरी जिंदगी जेल में रहना पड़े, मगर राम मंदिर बनना चाहिए। हम लोग आंदोलनकारी हैं। उन्होंने वह बात भी दोहराई जो अक्सर कहते आए हैं। कहा कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा, जिसमें भगवान श्रीराम का विग्रह विराजमान था, एक भव्य मंदिर बनाने के लिए उस विवादित ढांचे को उठाया गया था, जो हिंदुस्तान के माथे पर कलंक जैसा था।

साक्षी महाराज ने कहा कि मेरी वहां कोई भूमिका ऐसी नहीं थी, जिसमें कोई यह पाए कि मैं कहीं दोषी हूं। मुझ पर कोई मामला बनता नहीं है, क्योंकि मैं दूर-दूर से उस जो ढांचा ढहाया गया है, उससे दूर-दूर से मेरा कोई संबंध नहीं था। मैं साक्षी था वहां पर पूरी घटना का मैं खड़ा हुआ था। वहां पर मैं उपस्थित था। उसके बाद भी अगर दोषी सिद्ध होता हूं तो मेरे ऊपर कोई बड़ा आरोप लगता है तो प्रयास करेंगे जमानत वहीं हो जाए और अगर जेल भेजा गया तो हंसते हुए जेल चले जाएंगे माला पहन कर।

काशी-मथुरा के लिए नए योद्धा आएंगे, मेरा मकसद पूरा हुआ

मैं तो अयोध्या को लेकर के मैदान-ए-जंग में आया था, वह जंग हमने जीत ली है। अब बात रहती है काशी और मथुरा की तो अब नए नए योद्धा आएंगे जो बनेंगे देखेंगे। मेरा तो राजनीति में आना सफल हो गया है, क्योंकि अयोध्या में प्रभु राम भगवान का दिव्य ऐतिहासिक मंदिर का निर्माण हो गया है। कश्मीर की छाती से धारा 370, 35ए हट गई है। बहुत सारे ऐसे काम हो गए हैं। जिस दृष्टि से जिस राजनीति में मेरा पदार्पण हुआ था वह काम हो गया है।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *