कब बदलेगी खेती और किसान को तबाह करने वाली कृषि शिक्षा?

0
73
पसंद करे

नई दिल्ली. मोदी सरकार (Modi Government) ने देश की शिक्षा नीति बदल दी है. लेकिन उस शिक्षा व्यवस्था में अब तक कोई मूलभूत बदलाव नहीं किया गया है जो खेती और किसानों को लगातार तबाह कर रही है. वो ऐसी शिक्षा है जिसमें खेती जहरीली हो रही है, खादों का अंधाधुंध जहर बोया जा रहा है और किसान (Farmer) इतना बदहाल है कि वो आत्महत्या तक करने पर विवश है. भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) ने वर्षों से कृषि शिक्षा को व्यवहारिक नहीं बनाया.

हमारी कृषि शिक्षा का ऐसा माइंडसेट है कि इसे पढ़ने वाले ज्यादातर लोगों की यही चाह रहती है कि उन्हें एक अदद नौकरी मिल जाए. वो खेती करने नहीं जाना चाहते. यह ऐसी शिक्षा है जिसमें कृषि वैज्ञानिक (Agriculture scientist) जब कोई रिसर्च प्रोजेक्ट करता है तो वह बहुत अच्छा दिखता है. लेकिन किसान के खेत में वह उतना असरदार नहीं रह जाता. इसलिए अब कृषि क्षेत्र से जुड़े लोग आवाज उठा रहे हैं कि इस शिक्षा में भी बड़ा बदलाव होना चाहिए.


पसंद करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here