मानव संपदा पोर्टल से भाग रहे शिक्षक, 15 जुलाई तक का अल्टीमेटम

0
436
पसंद करे


-30 जून तक पोर्टल पर शिक्षकों को विवरण अपलोड करना था
-तय समय सीमा में 50 प्रतिशत लोगों ने भी नहीं दिया अपना ब्यौरा
-15 जुलाई तक रिकार्ड नहीं दिखाया तो बीएसए, एबीएसए के खिलाफ होगी कार्यवाही
-विवरण उपलब्ध नहीं कराने वाले शिक्षकों का रोका जाएगा वेतन

मथुरा।(आरएनएस ) बेसिक शिक्षा में नियुक्तियों को लेकर लगातार सामने आ रहे फर्जीवाडे से निपटने के लिए सरकार ने अब बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों और दफ्तरों में कार्यरत शिक्षक, कर्मचारी और अधिकारियों का पूरा ब्यौरा तलब किया है। पोल खुलने के डर से मानव संपदा पोर्टल पर अपना डाटा सत्यापित नहीं करा रहे हैं। अभी तक कई चैंकाने वाले तथ्यों का खुलासा हो चुका है, इससे शिक्षक सहम गये हैं। मथुरा जनपद में अभी तक 50 प्रतिशत से भी कम कर्मचारी, अधिकारी और शिक्षकों ने पोर्टल पर अपना डाटा अपलोड किया है। इसके लिए बेसिक शिक्षा निदेशालय और शासन स्तर से लगातार दबाव बनाया जा रहा है। अब निदेशालय ने सभी बीएसए और एबीएसए को चेतावनी दी है कि अगर 15 जुलाई तक डाटा सत्यापन का कार्य पूरा नहीं कराया जाता है तो संबंधित बीएसए और एबीएसए के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। अभी तक यह देखा गया है कि खण्ड विकास अधिकारी डाटा सत्यापन में रूचि नहीं ले रहे हैं।
    दूसरी और मानव सम्पदा पोर्टल पर परिषदीय अध्यापकों का सेवा विवरण ऑनलाइन अपलोड पूर्ण कराने एवं डाटा  सत्यापन में आ रही बाधाओं को दूर कराने और सत्यापन की तिथि को आगे बढ़ाने की मांग को लेकर राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन दिया है। राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ जिलाध्यक्ष मुकेश शर्मा एवं जिला महामंत्री अंजना शर्मा ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को ईमेल और व्हाट्स एप्प पर मानव सम्पदा पोर्टल पर शिक्षकों को विवरण सत्यापन करने में आ रही बाधाओं को दूर करवाने के लिए ज्ञापन दिया है। जिलाध्यक्ष मुकेश शर्मा ने बताया है कि निदेशक, बेसिक शिक्षा ने 30 जून तक मानव सम्पदा पोर्टल पर शिक्षकों से विवरण सत्यापित करवाने का आदेश दिया था। अध्यापक विवरण सत्यापित नहीं होने की स्थिति में जून महीने का वेतन आहरित नहीं करने की चेतावनी दी है।
डाटा फीड नहीं होने के ये हैं तर्क
जिलाध्यक्ष मुकेश शर्मा का कहा है कि गत दो वर्ष से भी अधिक समय से डाटा फीड किया जा रहा है, अभी तक पूर्ण नहीं है। शिक्षकों की सर्विस बुक विभाग के पास रहती है। मानव सम्पदा पोर्टल पर अभी भी शिक्षकों का वेतन विवरण, जी.पी.एफ विवरण, फोटो और अन्य दस्तावेज अपलोड नहीं हैं। साथ ही अधिकांशतः शिक्षकों का अवकाश का विवरण भी फीड नहीं है और कुछ शिक्षकों की सर्विस बुक में इंट्री भी पूर्ण नहीं है। ऐसी स्थिति में शिक्षक विवरण को सत्यापित करने में असमर्थ हैं। उन्होंने बताया कि समस्याओं से महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनन्द एवं निदेशक बेसिक शिक्षा, उत्तर प्रदेश को भी ईमेल कर अवगत कराते हुए ऑनलाइन सत्यापन की तिथि आगे बढ़ाने की मांग की है।


पसंद करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here