बड़ी देर के बाद

0
226
पसंद करे

कोई क्या कहेगा कोई क्या नहीं,

ज़माने की परवाह हम छोड़ चुके हैं बरसों से

क्या मन तेरा अब भर गया,

ज़माने की वाह वाही से,

जो ख़त लिख लिख कर भेज रहे,

अपनी खून स्याही से

बड़ी देर के बाद,

मुझे तेरा पैगाम मिला,

पहले पन्ने पर उसके,

लिखा हुआ तेरा नाम मिला,

बड़ी देर के बाद

अगले पन्ने पर लिखा हुआ था,

तेरी याद बड़ी मुझे आती है, उसके नीचे ही लिखा था +FYYTcbiao2yBAtJwH8kRz5lJcC6nZhHcSxA5Dhl6IZVUkVfj7/AHImwoIhWkvkhFoXkFARYQcQ3Sk7zCJqkRzkIyoHRQIgRjCMgRw2UzSHkh7TASEjQqlwIg9AXhBqwrDZhgX6kphlbChyN+AflZka5LARB9QbsQa0Ee4W9ocgG9SUPcYEyUFM/nRMSGybzpMxDPwz6CVTDO8JrQxIwI8wzO8jlEaLAIAMzC7oDBdOkIsTcYzVJxQfIPXyoh3JZFWA0+CSqQgqb5TCZXyNPIjK4FITvNI56Ai8pKAgx0SskCEA4IjZQ8Ej4k6hxCMZCFptAXLgUPjEAUcV4yD8sKoYHdliQIGHjKZ1JUmzMZXoTzgaNXwA


पसंद करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here