दादा साहेब फाल्के पुरस्कार:तमिल सुपरस्टार रजनीकांत को मिलेगा फिल्म का सर्वोच्च सम्मान; तमिलनाडु में वोटिंग से 5 दिन पहले फैसला

दक्षिण भारत के सुपरस्टार रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड 2019 से नवाजा जाएगा। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को इसका ऐलान किया। इसे तमिलनाडु चुनाव से जोड़कर देखे जाने के एक सवाल पर उन्होंने कहा कि रजनीकांत का फिल्म इंडस्ट्री के योगदान के लिए उन्हें यह सम्मान दिया जा रहा है। इसका चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है। दरअसल, तमिलनाडु में 6 अप्रैल को विधानसभा चुनाव के लिए वाेटिंग होनी है। रजनीकांत को 51वां दादा साहब फाल्के अवॉर्ड 3 मई को दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने दी थलाइवा को बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रजनीकांत को सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर बधाई दी है। उन्होंने लिखा, “कई पीढ़ियों में लोकप्रिय, जबरदस्‍त काम जो कम ही लोग कर पाते हैं, विविध भूमिकाएं और एक प्‍यारा व्यक्तित्व …ऐसे हैं रजनीकांत जी। यह बेहद खुशी की बात है कि थलाइवा को दादा साहेब फाल्‍के पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया है, उन्‍हें बधाई।”

रजनीकांत ने 26 दिन में छोड़ दी थी राजनीति
रजनीकांत का राजनीति में आने का सपना अधूरा ही रह गया। 70 साल के रजनी ने खराब सेहत की वजह से चुनावी राजनीति में नहीं आने का फैसला किया है। 3 दिसंबर को रजनीकांत ने कहा था कि वे नई पार्टी बनाएंगे और 2021 का विधानसभा चुनाव भी लड़ेंगे। 31 दिसंबर को नई पार्टी का ऐलान किया जाएगा, लेकिन ऐसा हो ना सका और 26 दिन के अंदर ही उन्होंने राजनीति छोड़ दी।

चार साल की उम्र में मां का निधन हो गया था
12 दिसंबर 1950 को बेंगलुरु के एक मराठी परिवार में जन्मे रजनी का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है। जीजाबाई और रामोजी राव की चार संतानों में शिवाजी सबसे छोटे थे। उनकी स्कूलिंग बेंगलुरु में हुई। रजनीकांत चार साल के थे, तभी उनकी मां का निधन हो गया था। घर की माली हालत बहुत अच्छी नहीं थी। इसलिए रजनीकांत ने कुली से लेकर बस कंडक्टर तक का काम किया। बस में टिकट काटने के अनोखे अंदाज की वजह से ही वे पॉपुलर हुए और दोस्तों ने उन्हें फिल्मों में एक्टिंग करने की सलाह दी।

इन सितारों को मिल चुका दादा साहेब पुरस्कार

वर्षनामफिल्म इंडस्ट्री
2018अमिताभ बच्चनहिन्दी
2017विनोद खन्नाहिन्दी
2016कसिनाथुनी विश्वनाथतेलुगू
2015मनोज कुमारहिन्दी
2014शशि कपूरहिन्दी
2013गुलजारहिन्दी
2012प्राणहिन्दी
2011सौमित्र चटर्जीबंगाली
2010के. बालचन्दरतमिलतेलुगू
2009डी. रामानायडूतेलुगू
2008वी. के. मूर्तिहिन्दी
2007मन्ना डेबंगालीहिन्दी
2006तपन सिन्हाबंगालीहिन्दी
2005श्याम बेनेगलहिन्दी
2004अडूर गोपालकृष्णनमलयालम
2003मृणाल सेनबंगाली
2002देव आनन्दहिन्दी
2001यश चोपड़ाहिन्दी
2000आशा भोसलेहिन्दीमराठी
1999ऋषिकेश मुखर्जीहिन्दी
1998बी. आर. चोपड़ाहिन्दी
1997कवि प्रदीपहिन्दी
1996शिवाजी गणेशनतमिल
1995राजकुमारकन्नड़
1994दिलीप कुमारहिन्दी
1993मजरूह सुल्तानपुरीहिन्दी
1992भूपेन हजारिकाअसमिया
1991भालजी पेंढारकरमराठी
1990अक्कीनेनी नागेश्वर रावतेलुगू
1989लता मंगेशकरहिन्दी, मराठी
1988अशोक कुमारहिन्दी
1987राज कपूरहिन्दी
1986बी. नागी. रेड्डीतेलुगू
1985वी. शांतारामहिन्दीमराठी
1984सत्यजीत रेबंगाली
1983दुर्गा खोटेहिन्दीमराठी
1982एल. वी. प्रसादहिन्दीतमिलतेलुगू
1981नौशादहिन्दी
1980पैडी जयराजहिन्दीतेलुगू
1979सोहराब मोदीहिन्दी
1978रायचन्द बोरालबंगालीहिन्दी
1977नितिन बोसबंगालीहिन्दी
1976कानन देवीबंगाली
1975धीरेन्द्रनाथ गांगुलीबंगाली
1974बोम्मीरेड्डी नरसिम्हा रेड्डीतेलुगू
1973रूबी मयेर्स (सुलोचना)हिन्दी
1972पंकज मलिकबंगाली एवं हिन्दी
1971पृथ्वीराज कपूरहिन्दी
1970बीरेन्द्रनाथ सिरकरबंगाली
1969देविका रानीहिन्दी
Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *